Monday, May 04, 2009

मुल्क़ सारा ये टशन में थ्रिल में है


रे बिस्मिल काश आते आज तुम हिन्दोस्ताँ

देखते कि मुल्क़ सारा ये टशन में थ्रिल में है


आज का लौंडा ये कहता हम तो बिस्मिल थक गये

अपनी आज़ादी तो भइया लौंडिया के तिल में है


आज के जलसों में बिस्मिल एक गूँगा गा रहा

और बहरों का वो रेला नाचता महफ़िल में है


हाथ की खादी बनाने का ज़माना लद गया

आज तो चड्ढी भी सिलती इंगलिसों की मिल में है

3 comments:

SKV said...

गिरीन्द्र भाई,
आपकी कलम में वाकई असर है. अपन तो २४ साल बैंक में जॉब किया है और इलेक्ट्रौनिक्स इंजिनियर भी हूँ सो, इलेक्ट्रानिक उत्पादों की डिजाईनिंग भी करता हूँ इसलिए आपकी तरह अच्छी कविता तो लिख नहीं सकता लेकिन पढने में मन खूब रमता है.
बेहद खूबसूरत और सीधे दिलो-दिमाग पर असर करती है आपकी ये कविता. आज के हिन्दी हिन्दुस्तान में देहरादून के मशहूर शायर "ओमप्रकाश खरबंदा 'अम्बर' " ने भी लिखा है की 'गालों और बालों' से बाहर निकलें शायर. लेखनी में मानवीय, सामाजिक और राष्ट्रीय सरोकार न हों तो वो वैसी ही है जैसे बिना चाशनी के जलेबी.
ओमप्रकाश खरबंदा की शायरी से दो पंक्तियाँ आपके लिए
'आ फिर ताल्लुकात को बेहतर सा मोड़ दें !
कुछ मैं भी जिद को छोड़ दूं कुछ तू बदल के देख !!'
और दूसरी ,
'मजबूरियों की गोद में दम तोड़ता है इश्क !
अब भी कोई बना ले तो बिगड़ी नहीं है बात !!'
अपनी कलम की धार को मंद न होने दें.
आपको बहुत-बहुत साधुवाद !
श्रीकृष्ण वर्मा
देहरादून (उत्तराखंड)

गिरीन्द्र नाथ झा said...

सरजी य मेरी नहीं पीयूष मिश्रा की कलम है। फिल्म गुलाल से।

Vibha Rani said...

niik blog achhi. pahil ber dekhal, muda bahut tasalli bhel