Monday, August 15, 2016

धन्यवाद रेल मंत्री जी

अबतक मैं रेल मंत्री  (@sureshpprabhu )के ट्विटर पर सक्रिय होने की बात सुनता आया था। ख़बरों में पढ़ता था। इससे पहले एक ट्रेन के लगातार देर से चलने के सम्बंध में दो बार मैंने भी शिकायत भी की थी ट्विटर के ज़रिए लेकिन कोई जवाब नहीं आया था और मैं निराश हो गया।

लेकिन 14 अगस्त को रेल मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर हेंडल ने जिस तरह से मेरी शिकायत पर तत्काल कार्यवाही की उससे मेरा उनके ट्विटर हेंडल पर भरोसा बढ़ा है।

बात यह हुई कि मैं गाड़ी संख्या 12506 नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस से आनंद विहार दिल्ली से कटिहार लौट रहा था। हम एसी थ्री के बी-3 कोच में यात्रा कर रहे थे। रात  दस बजे के क़रीब मुग़लसराय जंक्शन से पहले मैंने देखा कि हमारे कोच का अटेंडेंट कुछ लोगों के साथ शराब पी रहा है। इसके बाद नशे में वह कोच में घूम घूमकर यात्रियों को तंग करने लगा। मना करने पर भी वह सुन नहीं रहा था।

मैंने अन्य यात्रियों से कहा कि हम सब मिलकर शिकायत करते हैं लेकिन कई यात्रियों ने कहा कि नार्थ ईस्ट ट्रेन में यह आम बात है। यहाँ सभी शराब पीते हैं।

इसके बाद मैंने तुरंत रेल मंत्री सुरेश प्रभु के ट्विटर हेंडल को मेंशन कर अपनी बात रखी। मैंने लिखा कि जब अटेंडेंट ही शराब पी रहा तो क्या हम सुरक्षित यात्रा कर रहे हैं?'

पाँच मिनट के भीतर ही ट्विटर के ज़रिए मुझसे संपर्क किया गया और पीएनआर के आधार पर शिकायत नंबर तैयार किया गया और उसके बाद तुरंत रेलवे सुरक्षा बल के एक अधिकारी दो जवान के साथ मेरे पास आए और तुरंत अटेंडेंट को बुलाया और पूछताछ शुरू कर दी। तब रात के साढ़े दस बज रहे थे।

इसके बाद अन्य सभी कोच में भी रेलवे के सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया। मेरा मानना है कि यदि इस प्रकार रेल मंत्रालय सक्रिय रहता है तो यह अच्छी ख़बर है। मैं रेल में यात्रा करने वालों से कहना चाहूँगा कि वे सफ़ाई और अन्य असुविधा के सम्बंध में लगातार शिकायत करें।

शुक्रिया रेल मंत्रालय।

2 comments:

hridayraag said...

रेल मंत्री जी ने रेलवे की दशा और दिशा सुधारने के लिए जो प्रयास शुरू किया है वो सचमुच काबिल ए तारीफ़ है।
अपना अनुभव साझा करने के लिए शुक्रिया गिरींद्र नाथ भाई।

Nikhil Jain said...

अगर ऐसा ही रहा तो एक दिन ऐसा आएगा जब रेलवे अपराध मुक्त बन जाएगा।