Saturday, February 28, 2009

राजनीति

अमृता प्रीतम की यह कविता आपने पढ़ी है, यदि नहीं तो आज पढ़िए-





सुना है राजनीति एक क्लासिक फिल्म है

हीरो: बहुमुखी प्रतिभा का मालिक

रोज अपना नाम बदलता है

हीरोइन: हकूमत की कुर्सी वही रहती है

ऐक्स्ट्रा: लोकसभा और राजसभा के मैम्बर

फाइनेंसर: दिहाड़ी के मज़दूर,

कामगर और खेतिहर

(फाइनांस करते नहीं,करवाये जाते हैं)

संसद: इनडोर शूटिंग का स्थान

अख़बार: आउटडोर शूटिंग के साधान

यह फिल्म मैंने देखी नहीं

सिर्फ़ सुनी ही है

क्योंकि सैन्सर का कहना है —

'नॉट फॉर अडल्स।'

1 comment:

सुशील कुमार छौक्कर said...

हम तो अमृता जी के दीवाने है पर याद नही ये कविता कभी पढी है। पढी भी होगी तो अब फिलहाल याद नहीं। वैसे पढी तो आनंद आ गया। शुक्रिया जी। वैसे लगता है बुखार अब पूरी तरह से ठीक हो गया। वैसे आपने हमारा बुखार उतारने का नुस्खा नही पूछा।