Monday, April 14, 2008

नेपाल में कोइराला परिवार साख बचाने में विफल



भारत में गांधी परिवार और पाकिस्तान के भुट्टो परिवार की तरह 'सम्मानित' नेपाल का कोइराला परिवार संविधान सभा के लिए हुए महत्वपूर्ण चुनाव में अपनी साख बचाने में विफल रहा है। देश को तीन-तीन प्रधानमंत्री देने वाले इस परिवार के एक मात्र सदस्य को चुनाव में जीत हासिल हुई है।



प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला की अपनी बेटी सुजाता को राजनीति वारिस बनाने का सपना टूट गया है वहीं उनके चचेरे भाई और उनके विश्वासपात्र सुशील कोइराला, उनके भतीजे शेखर कोइराला की तराई के इलाके में बुरी तरह हार हुई है। यद्यपि, नेपाल के पहले निर्वाचित प्रधानमंत्री बिश्वेश्वर प्रसाद कोइराला के बेटे शशांक कोइराला के लिए यह चुनाव राजनीतिक फायदे वाला साबित हुआ है। इन्होंने दक्षिण पश्चिमी नेपाल के नवलपारसी जिले से जीत हासिल कर देश के राजनीति परिदृश्य में कोइराला परिवार का नाम जीवीत रखा है।


शशांक ने कहा, "राजनीति मेरे खून में है। मुझे राजनीति में आना पड़ा था और आज लगता है कि मेरा निर्णय सही था। आज नेपाली कांग्रेस चुनौतियों का सामना कर रही है।"

1 comment:

अतुल said...

भ्रष्ट हो चुका है यह परिवार भी.