Saturday, June 11, 2016

फ़ोर्ब्स साहेब की कोठी


फणीश्वर नाथ रेणु की वजह से मुझे फ़ारबिसगंज से लगाव है। दो दिन पहले की बात है, न्यूयार्क यूनिवर्सिटी की प्रोफ़ेसर रुचिरा गुप्ता के संग फ़ारबिसगंज घूम रहा था। रूचिरा जी फ़ारबिसगंज की ही हैं। दोपहर में उन्होंने कहा , चलिए आज आपको  फ़ोर्ब्स साब की कोठी दिखाते हैं।

दरअसल अररिया ज़िला का फारबिसगंज कभी सुलतानपुर इस्टेट  के नाम से जाना जाता था. 1859 में सुलतानपुर के मीर साहब की ज़मींदारी को एक अंग्रेज़ ‘सर अलेक्जेंडर फोर्ब्स’ ने ख़रीद लिया.

1890 में अलेक्ज़ेन्डर फोर्ब्स और उनकी पत्नी डायना की मृत्यु मलेरिया से हो गयी. तब आर्थर हेनरी फ़ोर्ब्स ने पिता की मृत्यु के बाद शासन संभाला और इसका नाम सुलतानपुर से बदलकर ‘फोर्बेस गंज’ रख दिया. लेकिन समय बदला और फ़ोर्ब्स परिवार ने सुलतानपुर इस्टेट को देश के मशहूर व्यवसायिक घराना जेके सिंघानिया के हाथों बेच दिया क्योंकि उस वक़्त यहाँ जूट की खेती बहुत होती थी।

पहले अंग्रेज़ यहाँ के ज़मींदार थे। कहते हैं कि फ़ोर्ब्स को किसानी का शौक़ था। इसी शौक़ की वजह से उसने सुलतानपुर को चुना और जमकर खेती की। एक सुंदर सा घर बनाया। घर के आगे एक बड़ा सा तालाब, घर के पूरब और पश्चिम में दो तोप, जिसका चबूतरा अभी भी है। इसके अलावा बड़ा सा गराज। कुल मिलाकर एक सुंदर सी कोठी.

फ़ोर्ब्स साब की कोठी में जो लोग अब रहते हैं, हमने उनसे भी बात की। पता चला कुछ साल पहले तक फ़ोर्ब्स के पोते और नाती यहाँ आते थे, अपने दादा-नाना के घर देखने, जिसमें एक का नाम एंड्रिल फ़ोर्ब्स था।  वह लंदन में कहीं शिक्षक थे।

आज फ़ोर्ब्स साब भले न हो लेकिन उनकी कोठी फ़ारबिसगंज में ख़ुशहाल है और सबसे महत्वपूर्ण कोठी के सामने का तालाब ज़िंदा है, पानी है वह भी साफ़। इस तालाब को 'सुलतान पोखर' कहा जाता है। आज यह पोखर 'फ़ोर्ब्स साब की कोठी ' की तरह ही फ़ारबिसगंज की पहचान है।

देश के छोटे शहरों और क़स्बों को यदि आप खंगालेंगे तो ढ़ेर सारी कहानी मिलेगी। यह लिखते हुए मुझे रवीश कुमार के ब्लॉग क़स्बा का टैगलाइन याद आ जाता है- 'शौक़े दीदार अगर है तो नज़र पैदा कर'

2 comments:

shubham sharma said...

गिरीन्द्र जी आपकी एलेग्जेंडर फोर्ब्स की कोठी के विषय में लिखा यह लेख अत्यंत ख़ूबसूरत व लगभग यात्रावृतांत की तरह ही है.....ऐसे लेख को पढ़ने की चाह समस्त पाठकों को होती है....ऐसी ही रचनाओं को आप शब्दनगरी पर भी प्रकाशित कर सकतें हैं....

champcash said...

ज़रा सोचिए , अगर आपको कुछ Android Apps इनस्टॉल करते ही $1.00 मिल जाए तो ?

और आप Unlimited Income करने के लिए Eligible हो जाए तो ?

वो भी Free मे ? ( No Joining Fees , No Hidden Charges , 100% Business)

जी हा , JangoMoney के साथ जूडीए और $1.00 का Joining Bonus हाथो हाथ पाइए ( Offer सीमित समय तक ) .

इतना ही नही अगर आप JangoMoney को अपने किसी दोस्त को Refer करते हो और वो भी कुछ Apps Install करता है तो आपको उससे भी Income होगी , ओर Aage वो भी किसी को रेफर करता है तो उससे भी इनकम होगी , वो भी 8 Levels तक .

=> आईए जानते है आप अपना $1.00 का Bonus कैसे प्राप्त कर सकते है और Unlimited Income के लिए कैसे Eligible हो सकते है ? ?

1. JangoMoney को नीचे दिए हुए Link से Install करे.

2. JangoMoney मे अपना Account बनाए.

3. Challenge को Complete कीजिए ( 8-10 Apps को Install करना है ओर 1-2 Minute तक Open भी करना है )

4. Challenge Complete होते ही आपके JangoMoney Wallet मे $1 की Income आप देख सकोगे.

5. अब Unlimited Income कमाने के लिए Invite & Earn Menu मे जाइए ओर अपने सभी दोस्तो को Whatsapp, Facebook के ज़रिए Invite कीजिए


=> आईए जानते है आप JangoMoney मे Unlimited Income कैसे कर सकते है ?

1. अब Unlimited Income कमाने के लिए Invite & Earn Menu मे जाइए ओर अपने सभी दोस्तो को Whatsapp, Facebook के ज़रिए Invite कीजिए

2. Ek Friend को Refer करने पर (उसका Challenge Complete होने पर , सभी Apps Install करवाने पर) $0.30 - $2.00 (Rs. 20 सें Rs.120 ) तक Income होगी.

3. इतना ही नहीं अगर आपका दोस्त भी किसी को Refer करता को उससे भी आपको Income होगी … और आगे भी … 8 लेवल तक आप कमा सकते है

Registration के लिये इस लिंक पे Clickकरे ,या Copy करके सिर्फ Google Chrome Browser में Paste करे .


#JangoMoney

http://JangoMoney.com/3108
Sponser ID:3108