Monday, August 24, 2009

बाबुल जिया मोरा घबराए, बिन बोले रहा न जाए

नारी की परतंत्रता से जुड़ी प्रसून जोशी कि कविता-





बाबुल जिया मोरा घबराए, बिन बोले रहा न जाए।
बाबुल मेरी इतनी अरज सुन लीजो, मोहे सुनार के घर मत दीजो।
मोहे जेवर कभी न भाए।

बाबुल मेरी इतनी अरज सुन लीजो, मोहे व्यापारी के घर मत दीजो
मोहे धन दौलत न सुहाए।

बाबुल मेरी इतनी अरज सुन लीजो, मोहे राजा के घर न दीजो।
मोहे राज करना न आए।

बाबुल मेरी इतनी अरज सुन लीजो, मोहे लौहार के घर दे दीजो
जो मेरी जंजीरें पिघलाए। बाबुल जिया मोरा घबराए।

4 comments:

सुशील कुमार छौक्कर said...

शुक्रिया इतनी बेहतरीन रचना पढवाने के लिए।

Udan Tashtari said...

बहुत बेहतरीन!! प्रसून जी की बात निराली!!

विनय ‘नज़र’ said...

sundar bahut sundar, ham to deewane hai prasoon ke geeton ke...

Bhavana Lalwani said...

maine ye kavita akhbaar mein padhi thi, lekin adhoori.. (prasoon joshi in JLF)...par ye nahin pata tha ki ye unki hi kavita hai..ek frnd ne aapke blog ka link diya tha ki yahaan ye kavita uplabdh hai.thank u for sharing this beautiful composition..main bhi ise apne blog par post kar rahi hun ki aur log bhi ise padh sakien. thnk u again.