Sunday, February 15, 2009

कहना बहुत कुछ चाहता हूं.............

मैं,
कहना बहुत कुछ चाहता हूं,
घरवालों और दोस्तों से ।
पर कह नहीं पाता,
बात पेट में और फिर
ऑफिस में ही ठहर जाती है।
हर सुबह
ऑफिस निकलने से पहले
सोचता हूं
आज
दीदी के घर जाउंगा॥
ढेर बातें करूंगा, मन की भड़ांस निकालूंगा॥
लेकिन हर शाम
मैं बदल जाता हूं।
ऑफिस का टेम्परेचर
हावी रहता है दिमाग में...
डीएनडी पार करने के बाद
याद आता है॥
ओह.!
आज फिर मैंने भूल की
दीदी के यहां जाना था॥
बात करनी थी......

5 comments:

रंजीत said...

भाई, हम एक साथ कई मोरचे पर तैनात सिपाही हैं । हमारे समय की विडंबना यह है कि जो जिंदगी हम जी रहे हैं वह हमारी जिंदगी है ही नहीं । आपकी कविता में वो जिंदगी बोल रही है, जो हमारी अपनी है। खैर, एक शेर अर्ज कर रहा हूं।
कोशिश के बावजूद इल्जाम रह गया
हर काम में जैसे कोई रह गया

बकौल फिराक
जिंदगी में एक कमी सी है
कि जरा-सी कमी बहुत-सी है

रंजीत said...

कोशिश के बावजूद इल्जाम रह गया
हर काम में जैसे कोई काम रह गया

गिरीन्द्र नाथ झा said...

शुक्रिया रंजीत भाई। फिराक साब ने ठीक ही कहा है कि जिंदगी में एक कमी सी है...

शायद इस वजह से मुझे जरा सी कमी भी बहुत बड़ी कमी महसूस होती है। (कभी-कभार)

विनीत कुमार said...

इ रवीश सरजी एक-एक करके सारे ब्लॉगरों को कविताई की लत लगा देंगे क्या। उधर ऑफिस-घर के बीच के झोकम-झोकी में भेलेनटाइन दिन में लिखे कि बेजी को भी पुरानी कविता याद आ गयी, औऱ इधर गिरि को। तब गद्य में जीवन के यथार्थ कोन लिखेगा भाई।

राकेश रमण said...

ये बताओ दोस्त , इतनी व्यस्तताओं के बीच कविता और गांव की रिपोर्ट आखिर कैसे पस्ट करते हो। मीडिया में अभी तो लोगों पर कॉस्ट कटिग और न जान कौन-कौन कटिंग के नाम पर काम का बोझ अतिरिक्त कहें तो बोनस डाला जा रहा है तो भी इतान लिख रहे हो..
कमाल की बात है।
कहूं तो लिखाड़ हो चले हो।
लिखते रहो और हम तक बात पहुंचाते रहो।
वैसे मार्मिक कविता है। दिल करीब। शुक्रया।
राकेश रमण
न्यूजर्सी